RBI रेपो रेट बढ़ाने की टाइमिंग पर गवर्नर की सफाई

RBI news

RBI बढ़ती महंगाई के बीच क्या भारतीय रिजर्व बैंक ने रेपो रेट बढ़ाए जाने के फैसले में देरी की है? क्या आरबीआई ने सही समय पर कदम नहीं उठाए? ऐसे तमाम आरोपों को खारिज करते हुए आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा है कि महंगाई को बर्दाश्त करना भी जरूरी था।

उन्होंने कहा कि केंद्रीय बैंक अगर और पहले मुद्रास्फीति प्रबंधन पर ध्यान देने में लग जाता तो इसके परिणाम अर्थव्यवस्था के लिए विनाशकारी हो सकते थे।

Strong Buy advice IT companies

 

rbi Shaktikanta Das
rbi Shaktikanta Das

एक कार्यक्रम में आरबीआई गवर्नर ने कहा, ‘‘उच्च मुद्रास्फीति को बर्दाश्त करना जरूरी था, हम अपने फैसले पर कायम हैं।’’ उन्होंने कहा कि केंद्रीय बैंक आर्थिक परिवर्तनों की जरूरतों को देखते हुए कदम उठा रहा था।

दास ने कहा कि आरबीआई के नियमों में यह स्पष्ट कहा गया है कि मुद्रास्फीति का प्रबंधन वृद्धि संबंधी हालात को ध्यान में रखते हुए किया जाना चाहिए।

RBI gov

उन्होंने कहा कि वैश्विक महामारी के मद्देनजर आरबीआई ने वृद्धि की ओर ध्यान दिया और सुगम नकदी परिस्थितियां बनने दीं। इसके बावजूद 2022-21 में अर्थव्यवस्था 6.6 फीसदी संकुचित हो गई थी। उन्होंने कहा कि केंद्रीय बैंक ने यदि अपना रुख पहले बदल लिया होता तो 2021-22 में वृद्धि पर इसका असर पड़ सकता था।

Simple-and-smart-way-to-start-Investing
Simple-and-smart-way-to-start-Investing

 

अगर आपको इस पोस्ट में कुछ अच्छा या समाज नहीं आता है तो निचे कमेंट में हमें बताइये

आरबीआई गवर्नर ने साफ किया कि मुद्रास्फीति से निपटने के लिए आरबीआई तीन या चार महीने पहले ध्यान नहीं दे सकता था। उन्होंने कहा कि मार्च में जब आरबीआई को ऐसा लगा कि आर्थिक गतिविधियां वैश्विक महामारी से पहले के स्तर से आगे निकल गई हैं

तब उसने मुद्रास्फीति को काबू करने की दिशा में काम करने का निर्णय लिया। उन्होंने कहा कि केंद्रीय बैंक दरों में तत्काल बड़ी वृद्धि नहीं कर सकता था।

RBI Shaktikanta Das