Mukesh ambani की कंपनी RIL के शेयर बेच निकल रहे निवेशक

RIL

RIL मुकेश अंबानी की रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (RIL) के निवेशकों के लिए शुक्रवार का दिन बेहद निराश करने वाला रहा। सप्ताह के आखिरी कारोबारी दिन बिकवाली की वजह से RIL का स्टॉक करीब 8 फीसदी लुढ़क गया। रिलायंस का स्टॉक भाव 2400 रुपये के स्तर पर है। एक दिन पहले के मुकाबले स्टॉक में 200 रुपये तक की गिरावट आ गई है। स्टॉक में यह गिरावट सरकार के एक फैसले की वजह से आई है।

क्या है सरकार का फैसला: सरकार ने रिलायंस इंडस्ट्रीज जैसी कंपनियों द्वारा पेट्रोल, डीजल और विमान ईंधन (एटीएफ) के अन्य देशों को निर्यात पर टैक्स लगाया है। वित्त मंत्रालय के नोटिफिकेशन में कहा गया कि सरकार ने पेट्रोल और एटीएफ के निर्यात पर छह रुपये प्रति लीटर की दर से टैक्स लगाया है। वहीं, डीजल के निर्यात पर 13 रुपये प्रति लीटर का टैक्स लगाया गया है।

RIL News

Adani Green इस स्टाॅक ने बदली निवेशकों की किस्मत 1 लाख बनाये 64 लाख

Mukesh Ambani | Reliance Industries | RIL
Mukesh Ambani | Reliance Industries | RIL

 

निर्यात टैक्स की वजह: दरअसल, यूक्रेन पर रूस के हमले के मद्देनजर तेल किल्लत का सामना कर रहे यूरोप और अमेरिका जैसे क्षेत्रों में ईंधन का निर्यात करके रिलायंस इंडस्ट्रीज और रोजनेफ्ट समर्थित नायारा एनर्जी जैसी रिफायनरी बड़ा मुनाफा कमा रही हैं। इस लिहाज से निर्यात टैक्स लगाया जाना काफी अहम है।

Simple-and-smart-way-to-start-Investing
Simple-and-smart-way-to-start-Investing

 

अगर आपको इस पोस्ट में कुछ अच्छा या समाज नहीं आता है तो निचे कमेंट में हमें बताइये

ये भी है वजह: निर्यात टैक्स लगाने का एक उद्देश्य पेट्रोल पंपों पर घरेलू आपूर्ति बेहतर करना भी है क्योंकि मध्य प्रदेश, राजस्थान और गुजरात जैसे राज्यों में ईंधन की कमी का संकट खड़ा है और निजी रिफायनरी ईंधन की स्थानीय स्तर पर बिक्री करने के बजाए इसके निर्यात को प्राथमिकती दे रही हैं।

Source link

This Post Has One Comment

  1. Pingback: IPO से पहले Lenskart ने जापान की कंपनी में खरीदी हिस्सेदारी

Leave a Reply