कर्ज में डूबी अनिल अंबानी की कंपनी रिलायंस कैपिटल को अपने खरीद ने के आमने-सामने आ गए देश के दो दिग्गज उद्योगपति रतन टाटा और गौतम अडानी

इस कंपनी में यस बैंक और ICICCI लैम्बार्ड  ने भी दिलचस्पी दिखाई है रिलायंस कैपिटल अनिल धीरूभाई अंबानी ग्रुप (ADAG) कंपनी के प्रमोटर है

रिलायंस कैपिटल भारत की सबसे बड़ी फाइनेंसियल सर्विस कंपनी में से एक है TATA, ADANI, यस बैंक और ICICCI लैम्बार्ड के साथ अभी तक 54 बोलियां लगाई है

रिलायंस कैपिटल फिलहाल कॉरपोरेट इनसॉल्वेंसी रिजॉल्यूशन के तहत पिछले नवंबर में, भारतीय रिजर्व बैंक ने “पेमेंट डिफाल्ट और गंभीर प्रशासकीय मुद्दों” के मद्देनजर बोर्ड को ख़ारिज किया

ADAG की कंपनी में अन्य फर्मों की तरह, Reliance Capital अनिल अंबानी की लगातार बिगड़ती संपत्ति के कारण वित्तीय संकट का एक और शिकार है.

मुकेश अंबानी के छोटे भाई अनिल अंबानी के पास 2008 में 42 बिलियन डालर संपत्ति थी लेकिन 2020 आते-आते उनके पास कुछ नहीं बचा

 जमा करने की अंतिम तिथि 11 मार्च थी, लेकिन कुछ संभावित खरीदारों के रिक्वेस्ट पर इसे बढ़ाकर 25 मार्च कर दिया गया.

भारत के 900 अरब डॉलर के रिटेल सेक्टर में दबदबा कायम करने के लिए दुनिया की सबसे बड़ी ई-कॉमर्स कंपनी ऐमजॉन